satka matka satta kalyan chart

satka matka satta kalyan chart,Kalyan Satta Matka was started in somewhere around 1950. The people then used to place bets on the opening and closing rate of cotton. The practice made its way 

read more>>>

Satta Matka, Satta Matka 2018: सट्टा मटका एक तरह का जुआ होता है आप इसे जुआ का राजा भी कह सकते हैं क्योंकि इसमें बड़े पैमाने पर जुआ खेला जाता है

satka matka satta kalyan chartसट्टा मटका (Satta Matka) एक तरह का जुआ होता है आप इसे जुओं का राजा भी कह सकते हैं क्योंकि इसमें बड़े पैमाने पर जुआ खेला जाता है हालांकि भारत में किसी भी तरह का जुआ गैरकानूनी होता है लेकिन इसके बावजूद सट्टा मटका भारत में बड़े पैमाने पर खेला जाता है। इस खेल को कानून की नजरों से बचकर खेला जाता है। सट्टा मटका में रिस्क ज्यादा होता है लेकिन उससे ज्यादा फायदा होता है जिसके कारण अधिकतर लोग इसकी ओर आकर्षित होते हैं।

 

Satta Matka – कब शुरू हुआ सट्टा मटका?
भारत में सट्टा मटका की शुरुआत आजादी से पहले से मानी जाती है। उस जमाने में सट्टा मटका पारंपारिक तरीके से खेला जाता था। आज टेक्नोलॉजी के बढ़ते प्रभाव के कारण के समय सट्टा मटका को ऑनलाइन खेला जा सकता है लेकिन पहले सट्टा मटका ऑनलाइन नहीं खेला जाता था। उस समय मटके के अंदर पर्चियां डाली जाती थी और उसमें नंबर निकाला जाता था। शुरुआती समय में मटके के प्रयोग के कारण इस खेल को आज भी सट्टा मटका कहा जाता है। शुरुआत में कॉटन के दाम पर सट्टा खेला जाता था जो न्यूयॉर्क कॉटन एक्सचेंज से टेलीप्रिंटर के जरिए बॉम्बे कॉटन एक्सचेंज भेजा जाता था। उस समय कॉटन के शुरु होने और बंद होने के दाम पर सट्टा खेला जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here